हमारे देश में 18 वर्ष से कम के बच्चों से काम करवाना कानून अपराध माना जाता है, क्योंकि ये उम्र बच्चों पढ़ने – लिखने तथा फ्यूचर बनाने की होती है

लेकिन बहुत से मजबूरियों होने के कारण बच्चों को बाल श्रमिक के रूप में कार्य करना पड़ता है।

तथा वे शिक्षा प्राप्त करने से बांछित रह जाते है। ऐसा ना हो इसलिये उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा यूपी बाल श्रमिक विद्या योजना 2022 (UP Bal Shramik vidhya Yojana) की शुरुआत करायी है

जिसके अंतर्गत प्रदेश के आर्थिक रूप से कमजोर परिवार के बच्चों तथा अनाथ बच्चों के लिए आर्थिक सहायता प्रदान की जायेगी।

हर दिन तेज़ी सामने आ रहे बाल श्रमिक के मामलों को देखते हुये उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा बहुत से कदमों को उठाया जा रहा है जिससे इनकी संख्या में कमी लायी जा सकें

और इसलिए हाल ही में उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा Mukhymantri Bal shramik Vidhya Yojana का शुभारंभ किया है।

जिसके तहत 8 वर्ष से अधिक 18 वर्ष से कम के अनाथ या फिर आर्थिक रूप से कमजोर परिवार के बच्चों के लिए आर्थिक सहायता प्रदान की जायेगी।

और आपको बता दें कि योजना के अंतर्गत बालकों को 1000 प्रतिमाह तथा बालिकाओं को 12000 रुपये प्रतिमाह आर्थिक सहायता राशि प्रदान की जायेगी।

मुख्य्मंत्री बाल श्रमिक विद्या योजना की अधिक जानकारी के लिए नीचे लिंक पर क्लिक करें?